Dil ka fasana

Ankhen jhuka, phir bhool ja
jaise ki kuch bhi na hua
kal main rahoon, ya na rahoon
tu rahe sada muskurata hua

Ankhon mein teri, sapne hai mere
apna bhi ek fasana bana
Pal mein woh hasna, pal mein manana
Khushiyon se mera daaman bhara

Dil hai dhadakte, ankhen kabhi nam
Lagta hai din ab dhalta hua
arzoo is dil ki, armaan humare
Hai ab chaman kanton se bhara

Na hosle buland, na iraada banaya
duniya se phir bhi shikva kiya
Kuch na kho kar bahut hai paaya
Ummeed mein jeene ka bahana mila

Ankhen jhuka, phir bhool ja
jaise ki kuch bhi na hua
kal main rahoon, ya na rahoon
tu rahe sada muskurata hua

This entry was posted in Hindi Poetry, Romantic, Sad. Bookmark the permalink.

One Response to Dil ka fasana

  1. मोहब्बत के रंग नये साँचे में ढलते हैं
    जिन्हे थी कभी मुझसे मोहब्बत वही रंग अब बदलते हैं

    आज भी है इंतज़ार इन आँखो को है किसका
    हम आज भी वही उसी मोड़ पर राहा उनकी तकते हैं

    हर वक़्त गुलो की सेज मिले यह नही है मुमकिन
    आज दिल के घाव काँटो की सेज पर पलते हैं

    कैसे कहे की अब इस दिल में क्या है तेरे लिए
    कुछ बात है यह है एसी की हम कह के और भी मरते हैं !!

    आपकी कविताए पढी अच्छी लगी । यदी हिन्दी मे कवीताए लिखती है, तो उन्हे हिन्दी मे ही लिखे
    आप आइये हमारे हिन्दी ब्लोग जगत के सम्मीलित मंच पर।

Leave a Reply